फ़ॉलोअर

अक्तूबर 24, 2019

समझ... ज़िन्दगी की

















ज़िन्दगी जी लिया हमने 
गमों को पी लिया हमने 
होश में हम जब आये
दिल को सी लिया हमने 

मैखाना भी ख़ाली था 
पैमाना भी ख़ाली था 
भरी थी जिन आंखों में इश्क़ 
वो निगाहें बड़ा सवाली था 

कहा दिल का भी मान लो
अपने जज़्बातों को थाम लो 
न करो सरेआम जख़्मों को 
ज़रा समझदारी से काम लो 


11 टिप्‍पणियां:

  1. Thank you very much for giving new information, my name is Pawan, and I am a Solan from Himachal Pradesh, and I am a professional blogger, I have a website, a lot of poets are lying, if you want to read poetry.
    So please click here to visit, you can also follow me in the website,
    thank you.

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत ही सुंदर कबिता थी पढ़कर अच्छा लगा।

    जवाब देंहटाएं
  3. Really nice article Thank you for sharing with us. I hope your article will be continue in future same as.

    जवाब देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed