फ़ॉलोअर

अगस्त 06, 2022

डर

तुझे जनता हूँ मैं जितना शायद ही कोई जाने
तुझे अंधेरे से डर लगता है तू माने या न माने

कोई चींटी भी न आ जाये तेरे पैरों के नीचे
सहम जाती है ऐसे जैसे तू चली है सज़ा पाने

मैंने देखा है तुझे डरते हुए अपने ख़्वाहिशों से
अपने ऊँचे ख़्वाबों से अपने ऊँचे हसरतों से

न डर इतना दुनिया से के तू मासूम है बहुत
मैं रहुंगा तेरे साथ तेरे ख़्वाबो डर को सम्हालने 

©अनामिका

अगस्त 01, 2022

मुहब्बत


कुछ दिनों से मैं अक्सर ना-साज़ सा रहने लगा हूँ
ये क्या बला है मुहब्बत नाराज़ सा रहने लगा हूँ
Kuchh Dinon Se Main Aksar NASAZ Sa Rahane Laga Hun
Yah kya Bala Hai Mohabbat NARAZ Sa Rahane Laga Hun

जुलाई 30, 2022

वजूद अपना






















कदम से कदम मिलाकर देख लिया 
आसान नहीं है तेरे साथ चलना 

तुझे अपनी तलाश है मुझे अपनी 
मुश्किल है दो मुख़्तलिफ़ का साथ रहना 

यूँ तो तू दरिया और मैं बरसता पानी  
धरम हमारा एक है यही कहता है ज़माना 

पर याराना न हो जो दोनों दिलों में 
मुमकिन नहीं छत ओ  दीवार का एक होना 

@अनामिका घटक 

जुलाई 26, 2022

अहम

हर घड़ी में खुद को #व्याप्त रखती हूं
मैं #नाव हूँ खुद ही #पतवार बनती हूँ

बरसों #गुम थी न जाने किस #जहां में 
इस जहाँ में ही अब #आशियाना बुनती हूँ

हर #मौसम में खुद को #ढाल के देखा
हर #मंजर में खुद को #संभाल के देखा

#मुद्दत से कोई #ख़्वाब भी न आया
#रात #नींद के #आगोश में जाकर भी देखा

#आईना देखा तो #नक़ाब रुख़ का देखा
सादे से मन पर #फरेब का #परत भी देखा

अब न होता खुद से #जवाब #तलब कोई
मोम से पत्थर बन कर #जवाब ढूंढ़ती हूँ
©अनामिका

जुलाई 18, 2022

मुलाक़ात


Tujhe khokar bahut dinon tak dhoondha tujhe Maine
Aa bhi jao janejan ke Kai din hue khud se  Mile hue

तुझे खोकर बहुत दिनों तक ढूंढता रहा मैंने तुझे
आ भी जाओ  के कई दिन हुए खुद से मिले हुए
©अनामिका

जुलाई 16, 2022

कबूतरों से.....

Kabutaron se chhin liya Gaya hai Uska kam 
berojgar kabutar ab Dane Dane Ko mohtaj Hai
कबूतरों से छीन लिया गया है उसका काम 
बेरोजगार कबूतर अब दाने-दाने को मोहताज है
© अनामिका 

जुलाई 14, 2022

वजूद

Tumse Behtar Tumhen Kaun Jaanta hai Bhala
 Apne vajud per bharosa kar lo
Tum sab se mukhtalif Ho na aitabar ho to
Apne Aaina Se jaakar poochh Lo
तुम से बेहतर तुम्हें कौन जानता है भला 
अपने वजूद पर भरोसा कर लो 
तुम सब से मुख़्तलिफ़ हो न एतबार हो तो 
अपने आईना से जाकर पूछ लो
©अनामिका

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed