जुलाई 16, 2013

केवल मेरे लिए......










उन आँखों की कशिश को महसूस किया था मैंने 
नर्म प्यार का अहसास था मुझे 
जो गीत गुनगुनाया था तुमने 
वो बोल भी भुलाया न गया मुझसे 
आसमान से जो बूंदे गिरी थी वो 
मुझे छूकर यही कह रही थी 
चलो भीगते हुए उन लम्हों को पकड़ ले 
कहीं छूट न जाये वो बचपन के रिश्ते 









वो पत्थरों से खेलना ....कागज़ की कश्ती 
में खुद को बहाना 
चोर निगाहों से तुम्हारा मुझे निहारना 
दुपट्टे से गीले  बालों को पोंछना 
फिर अगले दिन का वादा लेकर 
आँखों से ओझल हो जाना 
कुछ भी भुलाया नहीं गया मुझसे 









आज फिर से आसमान पिघल रहा  है 
कांच की बूँदें ज़मीन पे बिखरी पड़ी है 
 कागज़ की तमाम कश्तियाँ किनारे 
ढूँढती हुई राह भटक गयी 
वो धूप का कोना भी फिर से सतरंगी हो रहा है 
अक्सर वो धुन जहन में आ जाता  है 
जो तुमने कभी गुनगुनाया था 
केवल मेरे लिए 

समर्थक

लिखिए अपनी भाषा में

qr code

qrcode

ब्लॉग आर्काइव

copyscape

Protected by Copyscape Online Plagiarism Finder

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...