समर्थक

मई 16, 2011

मेरे मन मंदिर में.....




मेरे मन मंदिर में  उजाला भर दे कोई
बरसों से रीता मन में प्यार जगा दे कोई

पानी जो ठहरा हुआ है कंकड़ मारे कोई
उन हिलोरों में प्यार जगाये कोई

मेरे इस जीवन में जो एकाकीपन है
इस एका पल को भी छेड़ जाए कोई

निस्संग बिताये लम्हों से ये गुज़ारिश है
लम्हा-लम्हा इस दिल में समाये कोई

इन लम्हों की रह जाए बस केवल यादे
इस तनहा दिल में खुशियाँ भर जाए कोई

14 टिप्‍पणियां:

  1. मेरे मन मंदिर में उजाला भर दे कोई
    बरसों से रीता मन में प्यार जगा दे कोई


    aapki ikshha puri ho..:)
    pyari si abhivyakti!

    उत्तर देंहटाएं
  2. इन लम्हों की रह जाए बस केवल यादे
    इस तनहा दिल में खुशियाँ भर जाए कोई ..

    बहुत सुंदर शेर हैं ... आशा वादी संदेश देती है ये लाजवाब ग़ज़ल ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. निस्संग बिताये लम्हों से ये गुज़ारिश है
    लम्हा-लम्हा इस दिल में समाये कोई
    aameen

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप के मन मंदिर में
    मूरत किसी की सज जाए
    आपकी इबादत का
    सिला मिल जाए
    निरंतर दुआ मेरी
    आपकी हसरतें पूरी हो जाए
    हमेशा की तरह
    अना जी खूबसूरत
    लिखती हैं आप
    निरंतर ख़ूबसूरती से
    लिखते जाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूबसूरत शब्दों से सजाया है आपने इस कविता को.
    बहुत अच्छी लगी.

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्यार से भर देंगे हम गागर दिल की
    रीता दिल लेकर जो पास हमारे आये कोई

    उत्तर देंहटाएं
  7. इन लम्हों की रह जाए बस केवल यादे
    इस तनहा दिल में खुशियाँ भर जाए कोई

    बेहतरीन शब्द , ख्वाहिशे जरूर पूर्ण होगी शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  8. निस्संग बिताये लम्हों से ये गुज़ारिश है
    लम्हा-लम्हा इस दिल में समाये कोई... bhut hi sunder shabd rachna... kai baar padi bhut acchi lagi...

    उत्तर देंहटाएं
  9. सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति.
    बहुत बढ़िया.
    आप LIC में हैं,जानकर अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति|

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुंदर रचना हार्दिक बधाई .........

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed