समर्थक

मई 04, 2011

चादर पर पड़े .......


चादर पर पड़े सिलवटों की भी जुबां होती है
कभी प्यार तो कभी ग़म की कहानी कहती है


रेत गीली कर जाती है जो तूफ़ानी समंदर
वो समुंदर भी आंसुओं से ही नमकीन होती है


मिटटी की सोंधी खुशबू ने जिन फिज़ाओं को महकाया है
उन फिज़ाओं में ही  पतझड़ की कहानी होती है


पानी के बुलबुले को भूल से मुहब्बत मत समझो
इन बुलबुलों में बेवफाई की दास्ताँ होती है 

16 टिप्‍पणियां:

  1. चादर पर पड़े सिलवटों की भी जुबां होती है--- vaah bahut khoob sabhee paMMktiyaaMM bahut acchee lagee| aabhaara|

    उत्तर देंहटाएं
  2. मिटटी की सोंधी खुशबू ने जिन फिज़ाओं को महकाया है
    उन फिज़ाओं में ही पतझड़ की कहानी होती है

    बहुत खूब कहा आपने. बधाई
    दुनाली पर स्वागत है-
    ओसामा की मौत और सियासत पर तीखा-तड़का

    उत्तर देंहटाएं
  3. मिटटी की सोंधी खुशबू ने जिन फिज़ाओं को महकाया है
    उन फिज़ाओं में ही पतझड़ की कहानी होती है

    बेहद प्रभावशाली रचना। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ आपने लाजवाब रचना लिखा है जो काबिले तारीफ़ है! बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  5. सलवटों की जुबां....वाह भई समझने की बात है
    सम्पूर्ण रचना बहुत अच्छी लगी

    उत्तर देंहटाएं
  6. कोमल अहसासों से सने शब्द बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. पानी के बुलबुले को भूल से मुहब्बत मत समझो
    इन बुलबुलों में बेवफाई की दास्ताँ होती है

    सुन्दर लिखा है .

    उत्तर देंहटाएं
  8. सम्पूर्ण रचना बहुत अच्छी लगी|धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  9. --सुन्दर नज़्म भाव पूर्ण...

    "वो समुंदर भी आंसुओं से ही नमकीन होती है.." ---क्रपया लिन्ग का ध्यान रखें...समन्दर के लिये..होता है.. होना चाहिये...

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छे भाव लिए हुए है आपकी ये रचना

    उत्तर देंहटाएं
  11. अनामिका जी सुन्दर रचना -भाव भाव बहुत प्यारे पर जैसा की हमने पहले भी आप का ध्यान जागरण जंक्सन पर भी दिलाया था

    स्त्रीलिंग और पुल्लिंग का ध्यान रखा कीजिये भाव और रचना तब और खूबसूरत बन जाये कृपया निम्न सुधारें

    रेत गीला कर जाता है जो तूफ़ानी समंदर
    वो समुंदर भी आंसुओं से ही नमकीन होता है

    शुक्ल भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed