समर्थक

अगस्त 26, 2011

सुन लो ..........


सुन लो नभ क्या कहता है
धरती में पडा सन्नाटा  है,
असंख्य तारों की बातें
कोई नहीं सुन पाता है


व्यथा है इनकी भी- सुध  लो
आती रोशनाई को धर लो
हो सकता है धरती  की कोई
व्यथा है कहती  है-सुन लो


ऊपर  गगन है नीचे जन
भ्रष्ट तंत्र  -भूखे  जन-गण
नेताओं की लूट कथा को
बांच  रही नभ कर-कर वर्णन


 जन-जन अब  होकर जागृत
करने  न देंगे ...कुकृत्य
बरसेगा  घनघोर घटा
भर भर लेकर  बूँद अमृत






7 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन कथन अमृत जरूर बरसेगा

    उत्तर देंहटाएं
  2. जन-जन अब होकर जागृत
    करने न देंगे ...कुकृत्य
    बरसेगा घनघोर घटा
    भर भर लेकर बूँद अमृत
    सही और सार्थक कविता ........

    उत्तर देंहटाएं
  3. सार्थक और सटीक भाव लिए हुए सुंदर रचना, बधाई .....

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर रचना, सार्थक और खूबसूरत प्रस्तुति .

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपकी पोस्ट ब्लोगर्स मीट वीकली (६) के मंच पर प्रस्तुत की गई है /आप आयें और अपने विचारों से हमें अवगत कराएँ /आप हिंदी के सेवा इसी तरह करते रहें ,यही कामना हैं /आज सोमबार को आपब्लोगर्स मीट वीकली
    के मंच पर आप सादर आमंत्रित हैं /आभार /

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed