समर्थक

मार्च 29, 2013

जीने को बहुत है


नज़र के नजराने से न फेर यूं नज़र
नज़र के नज़राने के नज़रदार बहुत है

उमंग-ए-दिल पर सैलाब-ए-आंसू मत फेर
दिल के दरख्तों में बज़्म-ए-ग़म बहुत है

दर्द-ए-दिल को नज़्म में बयाँ ग़र करूँ
नज़्म में समाने को आखर बहुत है

तड़पती हूँ रात भर आहें भी भरती हूँ
पर हाय !ये गिनती के पल भी बहुत है

मुस्कुराना यारब से बा-अदब था सीखा
पर झूठी मुस्कानों की बे-अदबी बहुत है

लफ़्ज़ों के दामन ग़र आख़र से भर दूं
इस दर्द-ए-दिल की रुसवाइयां बहुत है

वक़्त जो भी गुज़रे है तेरे बिना मेरे
संग बिताए जो पल जीने को बहुत है

अनामिका

9 टिप्‍पणियां:

  1. दर्द-ए-दिल को नज़्म में बयाँ ग़र करूँ
    नज़्म में समाने को आखर बहुत है
    .....सच जितना गहरा दर्द उसका उतना बड़ा आकार .
    बहुत खूब..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर भाव ,बेहतरीन प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी यह बेहतरीन रचना बुधवार 03/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed