समर्थक

मई 11, 2012

ये मेरा तुम्हारा.........





ये मेरा तुम्हारा मधुर  मिलन 
हँसते हँसते भरे है नयन 
मुस्कान - ए - हया लाये है शर्म 
सुमधुर वाणी दे ह्रदय को मरहम 

वो भोर के तारे भी देखे 
बगिया में पुष्प अधखिले से 
वातास भी छुपकर लहराए
माला बन कुसुम भी इतराए 

सखियाँ सारी करे अभिनन्दन 
देख दोनों का प्रेम अभिवादन 
हंसिका से मुखरित हुआ कानन 
कहीं मर न जाऊं देख ये प्रेम मिलन 





15 टिप्‍पणियां:

  1. ये मेरा तुम्हारा मधुर मिलन
    हँसते हँसते भरे है नयन
    मुस्कान - ए - हया लाये है शर्म
    सुमधुर वाणी दे ह्रदय को मरहम
    भाव पूर्ण रचना....
    कहीं मर न जाऊं देख ये प्रेम मिलन
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज आपकी यह रचना पढ़कर एक गीत याद आया ...देखा तुम्हें तो जीने लगे हम पालें तुझे तो मारना जाएँ कहीं हम ..... बहुत ही सुंदर एव कोमल भाव संयोजन से सजी खूबसूरत कविता समय मिले आपको तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है एक नारी होने के नाते मेरी इस पोस्ट पर आपके विचारों की प्रतीक्षा रहेगी।
    http://mhare-anubhav.blogspot.co.uk/ धन्यवाद....

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर कोमल अभिव्यक्ति ..
    शुभकामनायें ..!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    आपकी प्रविष्टी की चर्चा आज शनिवार के चर्चा मंच पर लगाई गई है!
    चर्चा मंच सजा दिया, देख लीजिए आप।

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये मेरा तुम्हारा मधुर मिलन
    हँसते हँसते भरे है नयन
    बहुत सुन्दर ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बेहतरीन व प्रभावपूर्ण रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब नज़्म! ब्लॉग की सजावट तो क्या कहने...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर.... भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग

    विचार बोध
    पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्यारी सी अभिव्यक्ति ... सुन्दर प्रेम गीत ...

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed