समर्थक

फ़रवरी 12, 2012

मुझमे क्या कुछ....



मुझमे क्या कुछ बाकी है
जीवन ये एकाकी है 
पवन नदी औ ' निर्जन वन ये 
मुझको पास बुलाती है 


मृदु-मृदु ये लहरे बहती 
मंद-मंद सी पवन ये कहती 
विचलित होना न रे ! नर तू 
जीवन अवश्यम्भावी है 
क्या मुझमे कुछ बाकी है ?


व्यर्थ ये जीवन कहूं न कैसे ?
व्यर्थ ये साँसे तजूं न क्यों मै ?
किसी के मन को भाया मै नहीं
उर में भरा ये रूदन है 
फिर भी मुझमे कुछ बाकी है !


आशाओं को सींचूं फिर भी 
भाग्य - पुष्प को खिलाऊँ फिर भी 
काल-विजय का सपना देखूं 
जीवन को जीवंत करना है 
अरे! जीवन में सब कुछ बाकी है ।

18 टिप्‍पणियां:

  1. मृदु-मृदु ये लहरे बहती
    मंद-मंद सी पवन ये कहती
    विचलित होना न रे ! नर तू
    जीवन अवश्यम्भावी है
    क्या मुझमे कुछ बाकी है ?

    सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आशाओं को सींचूं फिर भी
    भाग्य - पुष्प को खिलाऊँ फिर भी
    काल-विजय का सपना देखूं
    जीवन को जीवंत करना है
    अरे! जीवन में सब कुछ बाकी है ।उम्मीद की बेहतरीन अभिवयक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति आशावादी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 13-02-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रेरणा देती ek अच्छी कविता

    उत्तर देंहटाएं
  6. जब तक साँसें है तब तक कुछ ना कुछ बाकी रहता ही है..

    सुन्दर भाव...

    उत्तर देंहटाएं
  7. मृदु-मृदु ये लहरे बहती
    मंद-मंद सी पवन ये कहती
    विचलित होना न रे ! नर तू
    जीवन अवश्यम्भावी है
    क्या मुझमे कुछ बाकी है ?

    आशा की तरंगें संचारित करता सुंदर गीत।

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह बहुत सुन्दर भाव संजोये हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहतरीन गीत...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर संदेश देती भावपूर्ण प्रस्तुति....निःसंदेह सराहनीय.....
    कृपया इसे भी पढ़े-
    नेता- कुत्ता और वेश्या (भाग-2)

    उत्तर देंहटाएं
  11. आशा है तो सब कुछ है।
    अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed