समर्थक

फ़रवरी 08, 2012

पेड़ के ....


Free Image Hosting


पेड़ के पीछे से
झरनों के नीचे से
नदियों के किनारे से
बागियों के दामन से
पहाड़ों की ऊँचाई से
नाम तेरा पुकारूं


पेड़ो से टकराकर
झरनों से लिपटकर
नदियों से बलखाकर
बागियों को महकाकर
पहाडो की वादियों से
नाम तेरा गूंजे
तुझे कई बार सुनाई दे





12 टिप्‍पणियां:

  1. पहाडो की वादियों से
    नाम तेरा गूंजे
    तुझे कई बार सुनाई दे

    बहुत सुन्दर सोच

    उत्तर देंहटाएं
  2. पेड़ के पीछे से
    झरनों के नीचे से
    नदियों के किनारे से
    बागियों के दामन से
    पहाड़ों की ऊँचाई से
    नाम तेरा पुकारूं


    पेड़ो से टकराकर
    झरनों से लिपटकर
    नदियों से बलखाकर
    बागियों को महकाकर
    पहाडो की वादियों से
    नाम तेरा गूंजे
    तुझे कई बार सुनाई दे
    शानदार, एक जूनून सा झलकता है कविता में !

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह बहुत खूब ...हर भाव नज़र आ गया इस छोटी सी कविता में

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed