समर्थक

फ़रवरी 03, 2012

नूतन मनहरण....


नूतन मनहरण किरण से त्रिभुवन को जगा दो
निहारूं तुम्हारे आँखों पर आये अपार करुणा को

नमन है निखिल चितचारिणी धरित्री को जो
नित्य नृत्य करे -- नुपुर की ध्वनि को जगा दो

तुम्हे पूजूं हे देव-देवी कृपा दृष्टि रख दो
रागिनी की ध्वनी बजे आकाश नाद से भर दो

इस  मन को निवेदित करूं मै तुम्हारे चरणों पर
प्रेम-रूप से भरी धरनी की पूजा मै कर लूं



15 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर सार्थक रचना। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी रचना के शब्द और भाव अप्रतिम हैं...बधाई स्वीकारें

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  3. वन्दनामय सुन्दर रचना, शब्द बखूबी इस्तेमाल किये है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. नूतन मनहरण किरण से त्रिभुवन को जगा दो
    निहारूं तुम्हारे आँखों पर आये अपार करुणा को

    अति मनोहारिणी रचना....
    प्रेममयी...
    करुणामयी.....

    उत्तर देंहटाएं
  5. मंत्रमुग्ध कर देनेवाली प्रस्तुति शानदार है |अब पढ़िए दिल की जज्बात यहाँ पधारें

    http://www.akashsingh307.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. बेहद ख़ूबसूरत और मनमोहक रचना! प्रशंग्सनीय प्रस्तुती !

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर भाव संयोजन....http://mhare-anubhav.blogspot.com/ समय मिले कभी तो आयेगा मेरी इस पोस्ट पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही खुबसूरत
    और कोमल भावो की अभिवयक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  10. गहरे भाव लिए सुंदर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  11. शब्द बहुत सुन्दर हैं..
    kalamdaan.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  12. खूबसूरत एवं सराहनीय रचना के लिये बधाई.......
    कृपया इसे भी पढ़े-
    नेता कुत्ता और वेश्या

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed