समर्थक

जनवरी 21, 2012

दिल की तरकीब



दिल की तरकीब खास कुछ काम न आ या
न दिल को मिला सुकून न मन को चैन आया


दिल लहूलुहान  हुआ आँखे रो रो कर रात काटे
चाहत आपने ही थी जताई  नाहक हमें बदनाम किया




कदमो को हमने है रोका नज़रों को समेटा है हमने 
ख़त के पुर्जे में भी आखर मिटाया है हमने 


उलझ रही है सीने में कोई नज़्म मिसरा या दोहा 
कोरे कागज़ पर लिखा नाम मिटाया है हमने 


रेत का महल ले डूबा समंदर और अब बारिश की बारी है  
ज़ख्मों का जो सिला दिया तूने वह सिलसिला अब भी जारी है 

  

17 टिप्‍पणियां:

  1. वाह! बहुत सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति,

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी लगाई है!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कोमल भावो की सुन्दर अभिवयक्ति.....

    उत्तर देंहटाएं
  4. रेत का महल ले डूबा समंदर और अब बारिश की बारी है
    ज़ख्मों का जो सिला दिया तूने वह सिलसिला अब भी जारी है



    गहरे अर्थ के साथ लिखी गई लेखनी

    उत्तर देंहटाएं
  5. उलझ रही है सीने में कोई नज़्म मिसरा या दोहा
    कोरे कागज़ पर लिखा नाम मिटाया है हमने ...

    उनका मान लिखना भी तो किसी शेर से कम नहीं ... वाह ... गज़ब का शेर है ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. रेत का महल ले डूबा समंदर और अब बारिश की बारी है
    ज़ख्मों का जो सिला दिया तूने वह सिलसिला अब भी जारी है

    अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  7. दिल लहूलुहान हुआ आँखे रो रो कर रात काटे
    चाहत आपने ही थी जताई नाहक हमें बदनाम किया
    HR SHER LAJBAB HAI ANA JI ....BAHUT UMDA...BADHAI SWEEKAREN ...AUR HAN MERE NAYE POST PR AP KB AYENGI....BESABRI SE INTJAR HAI.

    उत्तर देंहटाएं
  8. दिल लहूलुहान हुआ आँखे रो रो कर रात काटे
    चाहत आपने ही थी जताई नाहक हमें बदनाम किया
    HR SHER LAJBAB HAI ANA JI ....BAHUT UMDA...BADHAI SWEEKAREN ...AUR HAN MERE NAYE POST PR AP KB AYENGI....BESABRI SE INTJAR HAI.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ख़ूबसूरत एवं लाजवाब रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है ! बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  10. दिल लहूलुहान हुआ आँखे रो रो कर रात काटे
    चाहत आपने ही थी जताई नाहक हमें बदनाम किया




    कदमो को हमने है रोका नज़रों को समेटा है हमने
    ख़त के पुर्जे में भी आखर मिटाया है हमने

    Ana ji bahut hi sundar aur gahari anubhuti ko samet rahi hain aap ...sadar badhai ....aur han ak arsa ho gaya apko mere blog pr aaye huye...meri ak rachana Meet bn ke kahani buno to sahi me apne meri hr rachana padhane ka vada kiya tha ....vada yad dilana mera farj tha..

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed