समर्थक

दिसंबर 21, 2011

मेरी कवितायें......



मेरी कवितायें है एक आह़त पक्षी सम
गिरे तेरे कदमों पर हे! मेरे प्रियतम
जो पक्षी है आह़त नयन - वाण से
प्रिये उठा लो उसे....... धीरे से


वो सब स्वच्छंद विचरण-
 करती थी , नील नभ पर ,
तुम्हारे नयन-बाण ने
 किया आह़त कब न जानूं पर ,

मृत्यु गीत विषाद से भरा 
पर है ये अमृत सम 
 उदासी के साथ- साथ
 ये कवितायें है जीवन मम 

16 टिप्‍पणियां:

  1. मृत्यु गीत विषाद से भरा
    पर है ये अमृत सम
    उदासी के साथ- साथ
    ये कवितायें है जीवन मम

    बहुत सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  2. तुम्हारे नयन-बाण ने किया आह़त कब न जानूं पर ,
    बहुत सुंदर अच्छी लगी , आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. Kavita ji...

    Nayan baan se khag, mrug, insaaan...
    Saare hi ghayal hote hain..
    Aah nikalti nahi juban se..
    Peer se par, kaayal hote hain...

    Naam se bhi jo khud 'Kavita' hain...
    Unki kavita ka kya kahna...
    Hindi gyan vilakshan enka...
    Bhavon ka jyon bahta jharna...

    Sundar bhav..

    Deepak Shukla...

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छे शब्दों का प्रयोग किया है शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  5. कल 23/12/2011को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. खूबसूरत शब्दों से सजी गहरे भावों वाली सुंदर रचना बधाई समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है http://mhare-anubhav.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  7. मेरी कवितायें है एक आह़त पक्षी सम
    गिरे तेरे कदमों पर हे! मेरे प्रियतम
    जो पक्षी है आह़त नयन - वाण से
    प्रिये उठा लो उसे....... धीरे से

    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर रचना...
    सादर शुभकामनाएं....

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed