समर्थक

अक्तूबर 21, 2011

नदी के पार

नदी के पार कोई गाता गीत 
उस स्वर में बसा है मन का मीत 
नदी की लहरों खेतों से उठकर 
आती ध्वनि मन लेता जीत 

होगा इस पार जो लेगा सुन 
इस देहाती गानों का उधेड़-बुन 
इन एकाकी गानों को सुनकर 
मरकर भी जी लेगा पुन-पुन 

भानु-चन्द्र का है आलिंगन 
प्रकाश से भरा है लालिमांगन 
इन गीतों ने छेड़ा है फिर से 
राग-अनुराग का आलापन 

17 टिप्‍पणियां:

  1. खूबसूरत प्रस्तुति |

    त्योहारों की नई श्रृंखला |
    मस्ती हो खुब दीप जलें |
    धनतेरस-आरोग्य- द्वितीया
    दीप जलाने चले चलें ||

    बहुत बहुत बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. होगा इस पार जो लेगा सुन
    इस देहाती गानों का उधेड़-बुन
    इन एकाकी गानों को सुनकर
    मरकर भी जी लेगा पुन-पुन
    .... गहरी अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. गहरे भाव लिए सुंदर अभिव्यक्ति ....समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. गज़ब की प्रस्तुति…………………शानदार रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुंदर प्रस्‍तुति .. शुभकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. नदी के पार कोई गाता गीत
    उस स्वर में बसा है मन का मीत
    नदी की लहरों खेतों से उठकर
    आती ध्वनि मन लेता जीत...बेहतरीन प्रस्तुती....

    उत्तर देंहटाएं
  8. खूबसूरत प्रस्तुति| धन्यवाद|

    उत्तर देंहटाएं
  9. इन गीतों ने छेड़ा है फिर से
    राग-अनुराग का आलापन
    man chaahtaa aise geet nirantar sunte rahein
    sundar rachnaa

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर कविता, सुंदर भाव।
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed