समर्थक

अक्तूबर 07, 2011

तनहा ज़िन्दगी




तनहा  ज़िन्दगी में गुजर बसर करते है 
काफिले के साथ भी तनहा-तनहा चलते है 


दिन में भीड़ करती है मुझे परेशान 
रात को तन्हाई में भी सोया नहीं करते है 


परछाईं को देख मैं हूँ इस कदर हैरां
गुजरी उम्र ...हम अकेले चला करते है 


रात का सन्नाटा आवाज़ देती है मुझे 
जाऊं कैसे हम तो तन्हाई में डूबे रहते है 


17 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर रचना सुन्दर अभिव्यक्ति ,बधाई .

    मेरे ब्लॉग पर भी पधारें .

    उत्तर देंहटाएं
  2. कल 08/10/2011 को आपकी कोई पोस्ट!
    नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर रचना सुन्दर अभिव्यक्ति ,बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढ़िया भावपूर्ण अभिव्यक्ति ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. परछाईं को देख मैं हूँ इस कदर हैरां
    गुजरी उम्र ...हम अकेले चला करते है

    वाह! बहुत सुन्दर रचना....
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  6. रात का सन्नाटा आवाज देती है मुझे
    जाऊं कैसे हम तो तन्हाई में डूबे रहते है

    सुंदर भावपूर्ण ग़ज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  7. परछाईं को देख मैं हूँ इस कदर हैरां
    गुजरी उम्र ...हम अकेले चला करते है

    ........गहरे अहसास की कविता

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed