समर्थक

फ़रवरी 21, 2011

आँखों से झांकते...........

             (1)
आँखों से झांकते हुए तुम दिल में उतर गए
हया का पर्दा है जो तुम्हे मुझसे है अलग करता
             (2)
तुम्हे पाने की आरज़ू ने मुझे दीवाना बना दिया
तुम्हारे प्यार को पाना मैंने मकसद बना लिया
तुम्हे न पाने से जो सूरत-ए-हाल होगा सनम
ये सोचना भी दिल गवारा नही करता

13 टिप्‍पणियां:

  1. प्‍यार के रंग अजीब होते हैं।
    अच्‍छे नज्‍म।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत खुब
    दोनो शेर बेहतरीन है
    आरजू, कब पूरी होती है?
    शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  3. nice one...ana ji...
    आपकी यह नज़्म बहुत अच्छी लगी हमें

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज मंगलवार 8 मार्च 2011 के
    महत्वपूर्ण दिन "अन्त रार्ष्ट्रीय महिला दिवस" के मोके पर देश व दुनिया की समस्त महिला ब्लोगर्स को "सुगना फाऊंडेशन जोधपुर "और "आज का आगरा" की ओर हार्दिक शुभकामनाएँ.. आपका आपना

    उत्तर देंहटाएं
  5. "तुम्हे पाने की आरज़ू ने मुझे दीवाना बना दिया
    तुम्हारे प्यार को पाना मैंने मकसद बना लिया"

    वाह ... क्या बात है
    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  7. मन की भावनाएं
    और
    मन भावन शब्द ....
    सुन्दर काव्य !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. वह वह बहुत ही उम्दा शब्द इस्तमाल !हवे अ गुड डे ! मेरे ब्लॉग पर आये !
    Music Bol
    Lyrics Mantra
    Shayari Dil Se
    Latest News About Tech

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed