समर्थक

मई 19, 2010

ये बचपन

बस्तों के बोझ तले दबा हुआ बचपन
बसंत में भी खिल न पाया ये बुझा हुआ बचपन

बचपन वरदान था जो कभी अति सुन्दर
पर अब क्यों लगता है ये जनम - जला बचपन

अपनों से ही पीड़ित क्यों है आज बचपन
ये देन है किस सभ्यता का क्यों खो गया वो बचपन

वो नदियों सा इठलाना चिड़ियों सा उड़ना
वो तितलियों के पीछे वायु वेग सा दौड़ना

वो सद्य खिले पुष्पों सा खिलना इठलाना
वो रह पर पड़े हुए पत्थरों से खेलना

कहाँ है वो बचपन जो छूटे तो पछताए
क्यों है वो परेशां ये बचपन छटपटाये

खिलने से पहले ही मुरझाता ये बचपन
ये शोषित ये कुंठित ये अभिशप्त बचपन

5 टिप्‍पणियां:

  1. धन्यवाद. आपके चिट्ठे को देखा. कविताओं के कथ्य अच्छे हैं. कुछ ध्यान लय, भाषा-प्रवाह और पद भर पर दें तो अभिव्यक्ति अधिक प्रभावी होगी. दिव्यनर्मदा.ब्लागस्पाट.कॉम पर पधारिये-जुड़िये.

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut sundar abhivyakti...हार्दिक बधाई.
    ________________________
    'शब्द-शिखर' पर ब्लागिंग का 'जलजला'..जरा सोचिये !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुचले हुए बचपन से बड़ा कोई अभिशाप नहीं.. अब चाहे बस्ते के बोझ से दबा हो, या पढने की उम्र में घर के बोझ से कुचला बचपन.. सचाई दर्शाती हुयी कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut sunder bhav hain. hum aksar apne aas paas is tarah ka bachpan dekh rahe hain ..........par aapne inhe apne shabdon me piro diya hai.

    उत्तर देंहटाएं
  5. yahi to hai sahi shabdo mai abhivyakti.aapaki kavita padhkar film taare jameen par ki yaad aa gayi.aaj ke bacchon ki halat dekhkar yahi lagata hai ki kho na jaye ye taare jameen par.

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed