समर्थक

मई 15, 2010

मन की बात

रे मन तेरी ये दुस्साहस जो तूने प्रेम रचा डाला,
तिल-तिल जलती इस मन को अब दे छांव प्यार की मिटे ज्वाला II

मन की माने या दुनिया की जो बार बार ये बतलाती है ,
की प्यार  आग का दरिया है डूब के ही हमें पार जाना हैii

मन के कोने से आस जगी नहीं डरने की ये बात नहीं ,
प्यार ही तो है नफरत तो नहीं दुनिया की शाश्वत गाथा यही II 

1 टिप्पणी:

  1. मन के कोने से आस जगी नहीं डरने की ये बात नहीं ,
    प्यार ही तो है नफरत तो नहीं दुनिया की शाश्वत गाथा यही ...
    ....sundar bhavpurn chitran ke liye dhanyavaad....

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed