समर्थक

सितंबर 13, 2011

जाने क्यों...




जाने क्यों ये
दिल रोता है ,
जीवन में सब
 कुछ धोखा है, 
चुपके से आना
दिल में समाना-
महकती पवन
 का झोंका है |

अनजान पल जो
 ढल गए कल,
रंग बदल मन-
 को गए छल,
वक्त के साथ
 रहे है गल,
बेवफाई ये
 अपनों का है |

राह वही,
वही है सफ़र ,
तेरा साथ 
नहीं है मगर ,
बिन तेरे- 
मेरे हमसफ़र 
टूटा सपनों का
 झरोखा है 

जाने क्यों ये
 दिल रोता है ,
जीवन में सब कुछ
 धोखा है, 





13 टिप्‍पणियां:

  1. जाने क्यों ये
    दिल रोता है ,
    जीवन में सब
    कुछ धोखा है,

    बहुत सुन्दर रचना , सुन्दर भावाभिव्यक्ति , बधाई आभार



    कृपया मेरे ब्लॉग पर भी पधारने का कष्ट करें .

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुन्दर अभिव्यक्ति

    प्रेमपुर्ण रचना

    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही बढ़िया।
    ------
    कल 14/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन में सब कुछ धोखा है...
    वाह...
    बढ़िया रचना...
    सादर....

    उत्तर देंहटाएं
  6. तू है तो सब है
    तू नहीं तो कुछ भी नहीं...

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिन तेरे-
    मेरे हमसफ़र
    टूटा सपनों का
    झरोखा है

    ...बहुत मर्मस्पर्शी भावपूर्ण अभिव्यक्ति..

    उत्तर देंहटाएं
  8. सबसे पहले हिंदी दिवस की शुभकामनायें /विरह वेदना को उजागर करती हुई सुंदर शब्दों मैं लिखी शानदार रचना बहुत बधाई आपको /
    मेरी नई पोस्ट हिंदी दिवस पर लिखी पर आपका स्वागत है /

    http://prernaargal.blogspot.com/2011/09/ke.html

    उत्तर देंहटाएं
  9. तुक की अपेक्षा शब्‍द संयोजन और अर्थ को संभालना ज्‍यादा श्रेयस्‍कर रहता है

    जि‍न्‍दगी का शॉट

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed