समर्थक

अप्रैल 30, 2011

कश्ती दरिया में………।


कश्ती दरिया में इतराए ये समझकर
दरिया तो अपनी है इठलाऊं इधर-उधर

किनारा तो है ही अपना ,ठहरने के लिए
दम ले लूंगा मै भटकूँ राह गर

पर उसे मालूम नही ये कमबख्त दरिया तो
किनारों को डुबो देता है सैलाब में

कश्ती को ये बात कौन बताये जालिम
ना दरिया अपनी न किनारा अपना

e sakhi radhike1.m...

6 टिप्‍पणियां:

  1. aap bhi bahut achha likhti hain , badhai sweekarein. aise hi utshah badate rahiye. sukriya.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बड़े अच्छे अर्थ हैं आपकी रचना के। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कश्ती को ये बात कौन बताये जालिम
    ना दरिया अपनी न किनारा अपना
    waah bahut khoob kahi ,sundar .

    उत्तर देंहटाएं
  4. कश्ती को ये बात .....
    बहुत अच्छी पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed