समर्थक

दिसंबर 09, 2010

ब्लॉग-ए-आम........



 

दिन ढला शाम हुई 
चिड़ियों की कुहक 
वीरान हुई 

दिन ने रात को 
गले लगाया 
सांझ का ये नज़ारा 
आम हुई 

पेड़ों की झुरमुटों से 
चांदनी की छटा
दीदार हुई 

तारों की अधपकी रोशनी 
आसमां की ज़मी पे 
मेहरबान हुई 

ये तो रोज़ का नज़ारा है 
जाने क्यों लिखने को 
बेचैन हुई 

चलो आखिर इस बहाने 
मेरी ये कविता 
ब्लॉग-ए-आम हुई  

10 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ अलग-सा फ़ॉर्मेट अपनाकर आपकी यह भावाभिव्यक्ति सुंदर रचना का शक्ल अख़्तियार की है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैंने अपना पुराना ब्लॉग खो दिया है..
    कृपया मेरे नए ब्लॉग को फोलो करें... मेरा नया बसेरा.......

    उत्तर देंहटाएं
  3. बातेँ भले ही रोज की हो मगर आपने इसे खूबसुरत कविता का जो आकार दे दिया है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अलग अन्दाज़ की सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति,बधाई।

    "सांझ का नज़ारा आम हुई" वाली पंक्ति में मुझे व्याकरण दोष लग रहा है , देख लें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह! क्या बात है, बहुत सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  7. अति सुन्‍दर
    आना जी आपका ब्लॉग बहुत पसंद आया है !

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed