समर्थक

मई 12, 2010

प्रकाश की ओर



अस्त-व्यस्त ये जीवन क्यों है सुस्त-सुस्त ये चाल है क्यों
पस्त - पस्त सा क्यों है पड़ा तू ?खस्ता - खस्ता सा हाल है क्यों

असरत - कसरत कर के बनाया हृष्ट - पुष्ट सा ये काया
नष्ट न कर इस नियामत को चुस्ती तेरा सबको भाया

क्यों है निराश इस जीवन से निकल अवसाद के घेरे से
मनोकामना पूरी करले ऊबर मन के अँधेरे से

सफलता - असफलता लगा रहता है न कर निराश इस मन को तू
सफलता जिस दिन हाथ लगेगी संघर्ष के दिन न जाना भूल

निराशा में आशा छिपा है सर्वविदित है ये दर्शन
योग्य है तू काबिल है तू है जगजाहिर क्यों तू है खिन्न

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed