समर्थक

अप्रैल 25, 2010

विश्व जब है निद्रा- मग्न गगन है अन्धकार


विश्व जब है निद्रा- मग्न गगन है अन्धकार 

कौन ही जो मेरे वीणा के तार पर छेड़ा है झंकार 

नयनों से नींद लिया हर उठ-बैठूं शयन छोड़कर 
आँखे बिछाए प्रतीक्षा करूँ उसे न देख पाऊँ   
मन में मचा है हाहाकार 

गुन-गुन-गुन-गुन गीत से प्राण है भर गया 
न जाने कौन सा विपुल वाणी व्याकुल स्वर से बजाया 
कौन सी ये वेदना समझ न आये 
अश्रुधारा से भर गया हृदय ये 
किसे मैं पहनाओं ये मेरा कंठहार 

ब्लॉग आर्काइव

widgets.amung.us

flagcounter

free counters

FEEDJIT Live Traffic Feed