सितंबर 05, 2013

सावन आयो रे.....















बादलों की गर्जना में
नीर भी है पीर भी
कौन से वो आंसू है वो !
खार भी है सार भी।। 

वेदना के अश्रु है या
शबनमी बूंदों का खेल
या धरा पर उतरती है
झर झर झरनों का बेल ॥  

गात,पात,घाट,बाट 
प्लावित तन छलछलात 
विरही हृदय छटपटाये 
प्रणय सुर स्मरण आये ॥ 

सप्तरंग रंग बिखेरे 
सावन संग-संग ले फेरे 
ग्रीष्म-ताप भी भीगे रे  
झूम के सावन आये  रे ॥ 



समर्थक

लिखिए अपनी भाषा में

qr code

qrcode

ब्लॉग आर्काइव

copyscape

Protected by Copyscape Online Plagiarism Finder

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...